Tuesday, January 25, 2011

मै क्या हूँ आज बताऊंगा तुझे,
तू जो पूछेगी सब कुछ बताऊंगा तुझे

एक वक़्त जो बीतता नही ,
एक जिन्दगी जो चलती नही,
एक साँस जो थमती नही,
एक प्यास जो बुझती नही,
आज हर एक राज बताऊंगा तुझे,



एक खुली किताब कुछ कोरे पन्ने
एक उनकही बात,
एक नाकाम कोशिश ,
इसका राज बताऊंगा तुझे ,




एक अनछुआ सौन्दर्य ,
एक ग्रीष्म का सावन ,
एक हकीक़त ,
"मृगमरीचिका "
क्या हूँ आज बताऊंगा तुझे ।




आखों में नमी
भीगे लब
कापते होठ,
सिहरता बदन ,
एक अनसुलझी सोच ,

तू मेरी कौन ???ये बताऊंगा तुझे .................
गर जिन्दगी मिली तो एक सवाल पूछेंगे ...
क्या है खुद का इलाज पूछेंगे
पर तुम तो शुरु ही होती हो हिज्र के साथ ......
तुमसे क्या गिला .....तुम से क्या पूछेंगे ......................
किधर जाऊं कुछ समझ आता नहीं
इधर मै हूँ ,उधर निगाहे है
जिन्दगी शुरु होती है मेरे आखों से,
खत्म होती है,उसकी निगाहों तक ...................
जिन्दगी मिली तो एक सवाल पूछेंगे ,
क्या है खुद का इलाज पूछेंगे ,
जिसे मै खोजा करता हूँ
हर वक़्त ,हर जगह ,
उसका पता और उसका नाम पूछेंगे ,
क्यू चलती है ये साँस ,?
और किस पे है ये इल्जाम पूछेंगे,
दर्द क्यू होता है हर वक़्त मुझे ,
इसका कारन और दवा का नाम पूछेंगे
तू परेशान न हो .........एक वादा रहा तुझ से ,
जब मिलोगे ......
तुझसे न एक भी सवाल पूछेंगे .............
तेरे आखों में नमी
गुमसुम जिन्दगी
सुनी सांसे
लड़खड़ाते कदम
कापते हाथ
टूटती जिन्दगी
तू कौन??
मेरी बंदगी
न हो उदास
आएगा सावन
हसेंगे बदल
तुझे हँसता देख
बरसेंगे बादल
तुझे गाता देख
नमी तेरे आखों में अच्छी नहीं
इसे मेरे दिल में रहने दो
सुनी सांसे अच्छी नही
सूनापन मेरे मन में रहने दो ................

Monday, January 18, 2010

nam aakhen aur udas man.........................

नम आखें ...
उदास मन ...
उदास चेहरा ....
पर
मुस्कुराना पड़ा ...

सिसकती आत्मा ...
व्याकुल मन ..
तड़पती इच्छा....
पर
खुद को मानना पड़ा .....
वो आया पर कुछ कह सके ...
उसकी एक छुवन बिन रह सके ...
सोचते रहे नाराज़ रहेंगे हम भी ....
पर
उसकी अदा देख हसना पड़ा
अब
खुश हूँ , सांत हूँ इछित हूँ ...
पूरी होगी हर सोच हर इच्छा ये जन कर हर्स्षित हूँ ....
अब नहीं है नाम आखें ,...
नाही उदास चेहरा .....
और
खुश होके मुस्कुराना पड़ा ..................................................
प्रशांत श्रीवास्तव

antrdwand...........................................

KABHI TO MILOGI....................................................?




"tum apna ranjo gum apni preshani mujhe de do...............
phir dekhu to ke e duniya tumahe kaise stati hai................
tumko mere kasam apni nigeha bani mujhe dedo...........
tum apna ranjo gum apni preshani mujhe de do.............."